हर साल इस उद्देश्य के साथ में मनाया जाता है वर्ल्ड मॉस्किटो डे

वर्ल्ड मॉस्किटो डे हर साल 20 अगस्त को जो मनाया जाता है उसके बारे में आज हम बात करने वाले हैं। यह दिवस ब्रिटिश चिकित्सक सर रोनाल्ड रॉस की याद में हर साल मनाया जाता है। 1897 खोज की गई थी कि एक मादा मच्छर मलेरिया के लिए जिम्मेदार हो सकती है।

आखिरकार मच्छरों को इंसानी खून क्यों पसंद है

आखिरकार मच्छरों को इंसानी खून क्यों पसंद है इसके बारे में भी जान लेते हैं। क्या आप जानते हैं कि एक मच्छर है अपने वजन से 3 गुना ज्यादा इंसानी खून पी जाता है। जाहिर सी बात है कि जब मच्छर हमारा खून पीते हैं तो हमें गुस्सा आता है।

क्या आप जानते हैं कि जब मच्छर हमारे शरीर के किसी भी अंग पर काट लेता है तो हमें खुजली क्यों होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि मच्छरों को इंसानी खून पीने से ऊर्जा प्राप्त होती है। यही एकमात्र वजह है कि मच्छर बार-बार इंसानों का खून पीता रहता है।

इंसान के खून में कुछ पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो कि मच्छरों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद साबित होते हैं।
आपको जानकारी हैरानी होने वाली है कि सिर्फ मादा मच्छर ही इंसानों को काटती है। एक मादा मच्छर ऐसा तब करती है जब वह अपने बच्चों को जन्म देने वाली होती है।

मच्छरों को इंसानों के बैक्टीरिया और पसीने की बदबू मच्छरों को अपनी तरफ आकर्षित करती हैं। बताना चाहते हैं कि मच्छर ज्यादातर इंसानों के पैरों में काटते हैं। शायद आप समझ गए होंगे की मच्छर हमारा खून क्यों पीते हैं।

लेकिन अगर आप मच्छरों के काटने से बचना चाहते हैं तो साफ सफाई का ध्यान रखना बहुत ज्यादा जरूरी है। इसके साथ साथ आप सभी लोग समझ गए होंगे कि हर साल 20 अगस्त को वर्ल्ड मॉस्किटो डे क्यों मनाया जाता है। अगर आपको हिंदी जानकारी अच्छी लगे है तो शेयर करे।

Exit mobile version