इंटरनेशनल डे ऑफ पीस हर साल क्यों मनाया जाता है

दुनिया भर में हर साल 21 सितंबर को इंटरनेशनल डे ऑफ पीस मनाया जाता है। दुनिया भर में शांति रहे और सभी देश एक दूसरे के साथ अच्छे संबंध साबित करें इस उद्देश्य के साथ यूनाइटेड नेशन ने साल 1981 में इंटरनेशनल डे ऑफ पीस मनाने की घोषणा की थी।

हालांकि आज भी दुनिया के कुछ हिस्से आपस में संघर्ष कर रहे हैं। ऐसे में उनके लिए यह दिन बहुत अहम है। इस दिन की महत्वता को समझने और आपसी विवादों को खत्म करके शांति कायम करें।

इंटरनेशनल डे ऑफ पीस का इतिहास क्या है

इंटरनेशनल डे ऑफ पीस को विश्व शांति दिवस के रूप में भी जाना जाता है। यूएन जनरल असेंबली ने साल 1981 में एक रेसुलशन पास किया था जिसे यूनाइटेड किंगडम द्वारा यूनाइटेड रूम से स्पॉन्सर किया गया था।
इसके बाद साल 2001 में ग्रेट असेंबली ने घोषणा की थी की हर साल सितंबर के तीसरे सप्ताह यानी कि 21 सितंबर को इंटरनेशनल डे ऑफ पीस के रूप में मनाया जाएगा।

2022 में इंटरनेशनल डे आफ पीस की थीम क्या रखी गई है

चलिए हम आपको बताते हैं कि इस साल 2022 में इंटरनेशनल डे आफ पीस की थीम क्या रखी गई है। इस साल 2022 में इंटरनेशनल डे आफ पीस की थीम
End Racism. Build Peace रखी गई है। हिंदी में इसका मतलब होता है जातिवाद खत्म करो। शांति बनाएं रखो।

2021 में इंटरनेशनल डे आफ पीस की थीम क्या रखी गई थी

2021 के थीम के बारे में बात करें तो कोविड-19 ने पिछले 1 साल में बहुत कुछ बदल दिया है। वही जैसे कि अब हम धीरे-धीरे इससे उभर रहे हैं । हालांकि यह प्रक्रिया कठिन होने के बावजूद संभव है। लेकिन यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि जिस नई दुनिया में महामारी के बाद प्रवेश कर रहे हैं वह केवल माननीय में सामान्य है बल्कि स्वास्थ्य भी है। अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आई है तो ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। आप सभी को इंटरनेशनल डे आफ पीस की हार्दिक शुभकामनाएं।

Exit mobile version